RRB NTPC CBT-1 Result Issue : रेलवे ने नोटिस जारी कर रखा अपना पक्ष, प्रदर्शन न करने की दी सलाह, जानिए क्या कहा नोटिस मेंं

रेलवे एनटीपीसी सीबीटी-1 के रिजल्ट का मुद्दा काफी चर्चा में आता जा रहा है। रेलवे द्वारा एनटीपीसी सीबीटी-1 के परिणाम जारी करने के बाद से ही सभी छात्र लगातार अपना विरोध जारी किये हुए हैं।

rrb ntpc cbt-1 result issue

छात्रों द्वारा कई बार सोशल मीडिया आदि पर प्रदर्शन किया गया लेकिन उनका कहना है कि रेलवे द्वारा उनकी समस्याओं पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया गया। हालांकि इस बीच रेलवे ने नोटिस जारी करते हुए अपना पक्ष भी रखने का प्रयास किया है।

रेलवे ने 25 जनवरी की शाम को एनटीपीसी सीबीटी-1 के रिजल्ट के मुद्दे को लेकर चौथी बार नोटिस जारी किया गया है।

रेलवे द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि – 

यह संज्ञान में आया है कि रेलवे नौकरी के इच्छुक उम्मीदवार रेलवे पटरियों पर विरोध-प्रदर्शन, ट्रेन संचालन में व्यवधान, रेलवे संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने जैसी उपद्रवी/गैरकानूनी गतिविधियों में संलिप्त हुए हैं। इस तरह की गतिविधियां उच्चतम स्तर की अनुशासनहीनता प्रदर्शित करती हैं जो ऐसे उम्मीदवारों को रेलवे/सरकारी नौकरियों के लिए अनुपयुक्त बनाती हैं।

ऐसी गतिविधियों के वीडियो की विशेष एजेंसियों की मदद से जॉच कराई जाएगी और गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त पाए जाने वाले उम्मीदवारों पर पुलिस कार्रवाई के साथ-साथ ही उन्हे रेलवे की नौकरी प्राप्त करने से आजीवन प्रतिबंधित भी किया जा सकता है।

सभी आरआरबी सत्यनिष्ठा के उच्चतम मानकों को बनाए रखते हुए निष्पक्ष और पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया संचालित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। रेलवे नौकरी के इच्छुक उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे गुमराह न हों या ऐसे तत्वों के प्रभाव में न आएं जो अपने स्वार्थ को पूरा करने के लिए उनका इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहे हैं।

रेलवे के छात्रों द्वारा बिहार के कई क्षेत्र और उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में लगातार इस मुद्दे को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है। छात्रों की मांग है कि रेलवे एनटीपीसी सीबीटी-1 का परिणाम दोबारा जारी किया जाए और कुल 20 गुना छात्रों को सीबीटी-2 में बैठने का मौका दिया जाए।

Leave a Reply